(2022 ) मे 187 सालों के बाद काशी विश्वनाथ मंदिर का बनावट को देखकर PM  मोदी ने भी खूब किया तारीफ 

 (2022 ) मे 187 सालों के बाद काशी विश्वनाथ मंदिर का बनावट को देखकर PM  मोदी ने भी खूब किया तारीफ 

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब मंगलवार के दिन काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन के लिए पहुंचे तो वह मंदिर का गर्भ ग्रह मैं हमेशा से अलग ही रूप देखने को मिला था इस मंदिर मे नरेंद्र मोदी खुद  जाकर जल चढ़ाये  187 वर्षों बाद विश्वनाथ मंदिर में सोने के पात्र की  बढा़ई हुई थी  . जिसे देखकर पीएम मोदी ने हैरानी के साथ उन्होंने बोला कि इस मंदिर का तो रूप देखकर और इसकी कलाकारी को देखकर  बहुत ही अच्छा लग रहा है। 

नरेंद्र मोदी मंगलवार की शाम श्री काशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचे मंदिर के गर्भ गृह में चल रहे स्वर मंडनल  के कार्य के पूर्ण होने के पश्चात पहली बार पूजा करने पहुंचे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी इस कार्य को देखते हुए कहा है कि अदृश्य और हम कल्पना भी किया गया है स्वर्ण मंडल शिव वृश्य के नाथ दरबार एक अलग ही छवि प्रदर्शित कर रहा है। 

नरेंद्र मोदी शाम करीब 6 बजे मंदिर  जाकर पहुंचे विश्वनाथ द्वारा से प्रवेश करने के पश्चात मंदिर परिसर के उत्तरी गेट से गर्भ ग्रह में प्रवेश किए और मंदिर के  आरक्षक सत्यनारायण चौवे ,नीरज पांडे श्री देव महाराज ने बाबा का षोडशोपचार  पूजन कराया पूजन के पश्चात प्रधानमंत्री ने बाबा श्री आशीष विश्वनाथ से जनकल्याण की कामना का मन्नत  मांगा है। 

बाबा ने बोला कि जो भी आपको हमारे शिव से मांगना है  आप मांग लीजिए और अवश्य ही आपका यह मांगा के दिन हमारे शिव आपका मनोकामना  अवश्य ही पूरा करेंगे श्री काशी विश्वनाथ से कोई भी यहां से खाली नहीं जाता जो आप अपने मन में श्रद्धा बनाए हैं , उनको बनाए रखना है काशी  विश्वनाथ  जरूर ही पूरा करेंगे। 

इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने परिसर के अंदर जाकर चारों ओर अलग-अलग स्वर्ग के कार्य को देखा और उन्हें देखकर तारीफ भी किया दीवारों पर बनाई हुई चित्र को देखकर विभिन्न देवताओं के आकृतियां स्वर्ण मंडल के रूप में बनाया गया है और स्वर्ण मंडल के बाद गर्भ ग्रह की अभाव कई गुना बढ़ गई है उन्होंने बाबा को प्रणाम किया और उन्होंने कहा कि मैं तहे दिल से सभी बाबा को प्रणाम करता हूं फिर मंदिर से जाते     हुए नरेंद्र मोदी ने सिर झुका कर मंगलकामना करते हुए मंदिर से बाहर आए। 

और कहां जा रहा है कि इस दौरान परिसर  उपस्थित श्रद्धालुओं ने हर हर महादेव बोलकर उपस्थिति सेवादारों ने डमरु बजा कर झूमते हुए उनका स्वागत किया परीरस में उपस्थित  शास्त्रियों ने मंगलाचरण कर प्रधानमंत्री का अभिवादन किया पूजन के पश्चात प्रधानमंत्री को अगर अगवास्त्रम और मोमेंटो भेंट किया गया इसके बाद प्रधानमंत्री अपने घर को रवाना हो गए। 

कहा जा रहा है , कि 187 वर्ष पहले पंजाब के तत्कालीन महाराजा रणजीत सिंह ने 22 मन होने से नाथ मंदिर के दो प्रकारों को स्वर्ग रूप से मंदिर में प्रवेश कराया था जिसके बाद अब दक्षिण भारत के दंत दाताओं की मदद से गर्भ ग्रह को 120 किलो सोने से स्वर्ण  मंडित कराने का काम किया लगभग पूरा हो चुका है। 

और काशी पूराधिपति के मंदिर का रूप गर्भ ग्रह सोने की आवाज से चमकने और दमकने लगा मंदिर के अंदर की पूरी दीवारों पर सोने का पत्थर लगा हुआ है और उन चित्रों को देखकर  स्वरूप को देखकर व्याकुल हो गए  और उनको दिखाया गया है।  

महाशिवरात्रि के दिन पहुंच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी विश्वनाथ में अपनी मन्नत के लिए बोल रहे हैं  , कि मैं बस शिव से कुछ मांगना चाहता हूं काशी विश्वनाथ हमारी मनोकामना जरूर ही पूरी करेंग।      

ये भी पढ़े :- UP Elections : पेरेंट्स के वोट देने पर छात्रों को 10 नंबर  बढ़ा दिया जाएगा लखनऊ के कॉलेज ने ऐलान किया

Revolt News 24 Bureau

http://revoltnews24.com

Related post

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *