कांग्रेस की ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ मैराथन में भगदड़ जैसे हालात, ज़्यादातर चेहरों से मास्क भी थे गायब

 कांग्रेस की ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ मैराथन में भगदड़ जैसे हालात, ज़्यादातर चेहरों से मास्क भी थे  गायब

घायल तीन लड़कियों को जिला अस्पताल इलाज के लिए भेजा गया है. शहर कोतवाली पुलिस भी मौके पर जांच करने पहुंची है.

उत्तर प्रदेश के बरेली में कांग्रेस की ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ मैराथन में भगदड़ जैसे हालात देखने को मिला. जहां कई छात्राएं गिर गईं, जिससे कइयों को चोट पहुंची है. वीडियो में देखा जा सकता है कि कई महिलाओं और किशोरियों के चेहरे से मास्क भी गायब था.

बिना मास्क के मैराथन में हिस्सा लेने वाली किशोरियों की काफी संख्या थी. जैसे ही दौड़ शुरु हुई, आगे की कुछ महिलाएं गिर गई. जिसके बाद पीछे से आ रही भीड़ रुक नहीं रही थी. हालांकि, वहां खड़े कई लोगों ने भीड़ को रोकने की कोशिश की. लेकिन फिर भी करीब 20 लड़कियां जमीन पर गिर गई थीं. इस दौरान चीख-पुकार भी मची, कई बच्चियों के जूते चप्पल सड़क पर बिखरे हुए थे.

इसमें घायल तीन लड़कियों को जिला अस्पताल इलाज के लिए भेजा गया है. शहर कोतवाली पुलिस भी मौके पर जांच करने पहुंची है.
कांग्रेस नेता और बरेली की पूर्व मेयर सुप्रिया ऐरन ने इसका आयोजन किया था. उनका कहना है कि इसमें चिंता करने वाली कोई बात नहीं है. ऐरन ने कहा, ‘हजारों की भीड़ वैष्णो देवी भी गई थी.

उसके बारे में क्या? देखिए, ये इंसानी फितरत होती है कि पहले हम आगे बढ़े, पहले हम. ये स्कूली छात्राएं हैं और वे केवल थोड़ी बहुत भागदौड़ हो गई. लेकिन अगर किसी को किसी कारण से बुरा लगा है, तो मैं कांग्रेस की तरफ से माफी मांगना चाहती हूं. कांग्रेस के बढ़ते जनाधार की वजह से इस तरह की साजिश भी हो सकती है.’

Related post

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *